पृष्ठ

कुल पेज दृश्य

शनिवार, 21 जनवरी 2012

दर्द और एहसास

एहसासों के जंगल में हर इंसान अकेला होता है,
दर्द कभी बोला या बताया नहीं जाता......
वह तो तनहा ही सहा जाता है..................
एहसासों के साथ सभी अकेले होते हैं.
इंसान को ढाला जाता है परवरिश के सांचे में,
एहसास ढल जाता है अनुभवों के सांचे में .
सुख हो या दुःख सांझा हो सकता है पर एक नहीं होता,
एहसास सभी को होता है पर साझा नहीं हो सकता
दुःख बांटा जाता है नाकामियों पर अफ़सोस कर.
सुख बांटा जाता है हौसलों के गीत गाकर.
 एहसासों  को शब्दों का जामा नहीं पहनाया जा सकता ,
 एहसास मूक होता है अपना होता है बांटा नहीं जा सकता
  इस जंगल में सब तनहा होते हैं सब अकेले ही होते हैं..........            

33 टिप्‍पणियां:

dheerendra ने कहा…

मन अहसासों की बहुत अच्छी प्रस्तुति, सुंदर रचना,बेहतरीन
new post...वाह रे मंहगाई...

ऋता शेखर मधु ने कहा…

एहसास मूक होता है अपना होता है बांटा नहीं जा सकता

सार्थक ओर सटीक रचना...

Maheshwari kaneri ने कहा…

अहसास तो अहसास है जो सिर्फ अपना है...सार्थक ओर सटीक रचना..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्द्र अभिव्यक्ति!

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

अच्छा भाव है कविता का
आभार

sangita ने कहा…

THANX.

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति ..... विचारणीय पंक्तियाँ

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी लगाई है!
सूचनार्थ!

Sadhana Vaid ने कहा…

बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति है संगीता !
इस जंगल में सब तनहा होते हैं सब अकेले ही होते हैं..
बिलकुल सच कहा है ! इस जंगल में सब तनहा और अकेले ही होते हैं ! बहुत अच्छा लिखा है ! आपकी कलम सदैव इतनी ही प्रखर रहे यही शुभकामना है !

यशवन्त माथुर (Yashwant R B Mathur) ने कहा…

बहुत ही बढ़िया।


सादर

यशवन्त माथुर (Yashwant R B Mathur) ने कहा…

कल 23/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

sangita ने कहा…

aapka aashirvad hoga to kuchh bhi asambhav nhin hae

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ये सच है की मन के अंदर अपने सपनों में अपने एहसास में हर कोई अकेला होता है ...

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

sach kaha aapne ehsaas kabhi yaatra nahi karte. bahut acchhi prastuti.

RITU ने कहा…

'एहसास ' के बारे में अच्छा लिखा है ..
kalamdaan.blogspot.com

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति...
तनहा तनहा दुःख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गायेंगे...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ये एहसास ही हैं जो कुछ कहने पर मजबूर कर देते हैं ... सुन्दर प्रस्तुति

vidya ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति..
दर्द का एहसास सिर्फ उसको भोगने वाला करता है...इस दर्द का कोई भागीदार होता है..

Patali-The-Village ने कहा…

एहसास! सार्थक ओर सटीक रचना|

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

इंसान को ढाला जाता है परवरिश के सांचे में,
एहसास ढल जाता है अनुभवों के सांचे में .
BAHUT SUNDAR RACHANA YATHARTH KE AAS PASS ....BADHAI SWEEKAREN

sushila ने कहा…

दर्द, एहसास, वेदना ये ही संवेदना बन कर काव्य में ढलते हैं। सुंदर प्रस्तुति।

रमेश शर्मा ने कहा…

एहसासों को शब्दों का जामा नहीं पहनाया जा सकता."एहसास" की जा रही सुंदर रचना..

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

dinesh aggarwal ने कहा…

दर्द का अहसास सुन्दर मार्मिक,
आपकी कविता पढ़ी तो हो गया।
कृपया इसे भी पढ़े-
क्या यही गणतंत्र है

अनुपमा पाठक ने कहा…

हम सभी तत्वतः अकेले हैं!
सुन्दर रचना!

Mamta Bajpai ने कहा…

बहुत ही भाव पूर्ण रचना अहसासों से सराबोर ....आभार

shikha varshney ने कहा…

भावपूर्ण अभिव्यक्ति.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

दर्द ! इतना तन्हा कि अपनी आवाजें भी खो जाती हैं ...

संगीता तोमर Sangeeta Tomar ने कहा…

सुंदर रचना ......सपरिवार सहित गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.....

dheerendra ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति,अच्छी रचना,..

WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

Reena Maurya ने कहा…

दर्द और अहसास की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति
बेहतरीन रचना...

इमरान अंसारी (عمران انصاری) ने कहा…

सबसे पहले हमारे ब्लॉग 'जज्बात....दिल से दिल तक' पर आपकी टिप्पणी का तहेदिल से शुक्रिया.........आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ...........पहली ही पोस्ट दिल को छू गयी..............कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब...........आज ही आपको फॉलो कर रहा हूँ ताकि आगे भी साथ बना रहे|

कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए- (अरे हाँ भई, सन्डे को भी)

http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
http://khaleelzibran.blogspot.com/
http://qalamkasipahi.blogspot.com/


एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

संजय भास्कर ने कहा…

पढ़ रहा हूँ ...समझ रहा हूँ ..सोच रहा हूँ
गहन ...मर्मस्पर्शी ...

एक टिप्पणी भेजें