पृष्ठ

कुल पेज दृश्य

बुधवार, 5 अक्तूबर 2016

                                     क्यूँ 


क्यूँ, हर अंतराल के बाद दस्तक देते हो 
आजमाने की हर कोशिश करते हो, क्यूँ 
मुझे भी संभलने में खुद को आजमाने में 
तकलीफ होती है ,
ऐ जानते हुए भी 
सिर्फ अपनी तसल्ली के लिए 




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें