पृष्ठ

कुल पेज दृश्य

रविवार, 14 अगस्त 2016

कहाँ पर बोलना है और कहाँ पर बोल जाते हैं
 जहाँ खामोश रहना है वहाँ मुँह खोल जाते हैं।।
 कटा जब शीश सैनिक का तो हम खामोश रहते हैं
कटा एक सीन पिक्चर का तो सारे बोल जाते हैं।।
 बहुत ऊँची दुकानों में कटाते जेब सब अपनी
मगर मज़दूर माँगेगा तो सिक्के बोल जाते हैं।।
 अगर मखमल करे गलती तो कोई कुछ नहीँ कहता
 फटी चादर की गलती हो तो सारे बोल जाते हैं।।
हवाओं की तबाही को सभी चुपचाप सहते हैं
च़रागों से हुई गलती तो सारे बोल जाते हैं।।
बनाते फिरते हैं रिश्ते जमाने भर से हम अक्सर।
 मगर घर में जरूरत हो तो रिश्ते बोल जाते हैं।।!!!!

1 टिप्पणी:

रमेश शर्मा ने कहा…

behtreen panktiyan..suswagatam

एक टिप्पणी भेजें